लौट आएंगे भारतीय: रूस में भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत, पुतिन ने PM मोदी से किया वादा

PM Modi And Putin: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूस दौरे का असर दिखने लगा है. यूक्रेन जंग के लिए रूसी सेना में शामिल भारतीयों की सुरक्षित घर वापसी होने वाली है. इसके लिए  राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने PM मोदी से वादा किया है. ये मुद्दा PM ने सोमवाप की बैठक में उठाया था. न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार दोनों देशों के बीच में इसे लेकर सहमति बन गई है.

JBT Desk
JBT Desk

PM Modi Putin Meeting: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रूस दौरा अभी खत्म भी नहीं हुआ कि इसके परिणाम सामने आने लगे हैं. यूक्रेन जंग के लिए रूसी सेना में शामिल भारतीयों को लेकर देश से लगातार हो रही मांग पर फैसला हो गया है. न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार, PM मोदी ने सोमवार को राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सामने रशियन आर्मी में काम कर रहे भारतीय नागरिकों के घर वापसी का मुद्दा उठाया था. माना जा रहा है इसपर दोनों नेताओं के बीच सहमति बन गई है. पुतिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भारतीय नागरिकों के सुरक्षित देश वापसी का वादा किया है.

बात दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने 3 दिन के विदेश दौरे पर हैं. पहले 2 दिन वो रूस में हैं. इसके बाद आज यानी 9 जुलाई की शाम तक आस्ट्रिया के लिए रवाना होंगे. रूस के राष्ट्रपति पुतिन के 22वें भारत- रूस शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए PM मोदी को मास्को आमंत्रित किया था.

देश लौटेंगे भारतीय

न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार, रूस उन सभी भारतीयों को भारत वापस भेज देगा जो रूसी सेना के लिए काम कर रहे हैं. पीएम मोदी ने ये मामला रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अपनी खास बातचीत में उठाया था. जानकारी के अनुसार, रूस सेना में काम कर रहे इंडियन्स को न सिर्फ देश वापस भेजेगा बल्कि, उनका सम्मान भी करेगा.

लंबे समय से हो रही थी मांग

कई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नौकरी की तलाश में गए लोगों को धोखे से रूसी सेना में शामिल करवा दिया गया था. इन सभी का उपयोग यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में किया गया. लगातार भारत की धरती से उनकी वापसी की मांग हो रही है थी. पिछले महीने जंग में दो लोगों की मौत भी हो गई थी. इसके बाद भारत ने रूस से सेना में भर्ती भारतीयों को वापस भेजने की मांग की थी.

कांग्रेस ने भी उठाए थे सवाल

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा था कि मॉस्को में भारतीय दूतावास के अनुसार, कम से कम 50 भारतीय नागरिक रूसी सेना में शामिल हुए हैं. युद्ध में दो लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है. इस जंग में इन भारतीयों का कोई हित नहीं है. क्या प्रधानमंत्री इन युवाओं का मुद्दा उठाएंगे? क्या वे जल्द से जल्द उनकी सुरक्षित भारत वापसी सुनिश्चित करेंगे?

calender
09 July 2024, 10:32 AM IST

जरूरी खबरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो