ब्रिटेन की सत्ता में 2 महिलाएं, लंदन से चलाएंगी सरकार; जानें भारत और पाकिस्तान से कनेक्शन

Keir Starmer Cabinet: ब्रिटेन में सरकार पलट गई. 61 साल के कीर स्टार्मर देश के 58वें प्रधानमंत्री बने हैं. उनकी चर्चा भारत में उनके कैबिनेट के लिए हो रही है. कीर ने दो ऐसी महिलाओं को कैबिनेट में जगह दी है जिनका भारत से कोई न कोई कनेक्शन है. इन दो महिलाओं का नाम है लिसा नंदी और शबाना महमूद है. दोनों का ही भारत से गदरा कनेक्शन है. आइये जानें महिला मंत्रियों की डिटेल

Shyamdatt Chaturvedi
Shyamdatt Chaturvedi

Keir Starmer Cabinet: ब्रिटेन में शुक्रवार, 5 जुलाई को चुनाव के रिजल्ट आते ही सरकार पलट गई. सत्ताधारी कंजर्वेटिव पार्टी के 14 साल की सत्ता के बाद लेबर पार्टी ने तख्त पर जगह बनाई. और 61 साल के कीर स्टार्मर देश के 58वें प्रधानमंत्री बन गए. इन चुनावों की चर्चा अभी भी हो रही है. खासकर भारत में इनकी चर्चा कीर कैबिनेट के विस्तार के कारण हो रही है. उनकी कैबिनेट में 2 महिलाएं है. एक का नाम लिसा नंदी और एक का नाम शबाना महमूद है. दोनों का ही भारत से कनेक्शन है. आइये जानें इन दोनों के बारे में.

ब्रिटेन चुनाव में ऋषि सुनक ने हार स्वीकार कर ली है. आम चुनाव में लेबर पार्टी ने कुल 650 सीटों में से 412 पर जीत दर्ज की है. जबकि, सरकार बनाने के लिए 326 सीटों की जरूरत होती है. वहीं सत्ता में रही कंजर्वेटिव 120 सीटों पर सिमट गई है. ये कंजर्वेटिव पार्टी की 200 सालों में सबसे बड़ी हार है.

लिसा नंदी

मैनचेस्टर में जन्मी भारतीय लिसा नंदी संस्कृति, मीडिया और खेल के लिए राज्य सचिव बनाई गईं हैं. नंदी के पिता दीपक नंदी, कोलकाता में जन्मे शिक्षाविद हैं. बाद में वो यूके में शिफ्ट हो गए. उन्होंने लेबर पार्टी के लिए 1976 के नस्ल संबंधी विधेयक का मसौदा तैयार करने में मदद की थी. नंदी की मां एन लुइस बायर्स हैं. 44 वर्षीय लीसा नंदी लेबर पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए हुए 2020 के चुनाव में 3 दावेदारों में से एक थीं. उनका मुकाबला स्टार्मर और एक अन्य उम्मीदवार से ही था.

शबाना महमूद

शबाना महमूद बर्मिंघम में जन्मी हैं. हालांकि, उनकी जड़ पाकिस्‍तान स्थित POK से जुड़ी हैं. शबाना के माता-पिता POK के मीरपुर में बाब-ए-याम गांव के रहने वाले हैं. शबाना के परिवार की की स्थिति ज्‍यादा अच्‍छी नहीं थी. उनके पिता सऊदी अरब में काम करते थे. उनकी मां भी एक किराना स्टोर में काम करती थीं. वो 15 अगस्त, 2019 को लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन और भाषण देकर सुर्खियों में आईं थी. उन्हें भारत विरोधी के रूप में जाना जाता है.

calender
07 July 2024, 02:12 PM IST

जरूरी खबरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो