NewsClick के फाउंडर प्रबीर पुरकायस्थ को SC से राहत, मिली रिहाई

न्यूज़क्लिक के फाउंडर को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है. दरअसल बुधवार को यूएपीए मामले में गिरफ्तार न्यूज़क्लिक के संस्थापक प्रबीर पुरकायस्थ को तत्काल रिहा करने का आदेश दिया.

JBT Desk
JBT Desk

NewsClick: न्यूज़क्लिक के फाउंडर को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है. दरअसल बुधवार को यूएपीए मामले में गिरफ्तार न्यूज़क्लिक के संस्थापक प्रबीर पुरकायस्थ को तत्काल रिहा करने का आदेश दिया. शीर्ष अदालत ने कहा कि पुरकायस्थ की गिरफ्तारी और उसके बाद की रिमांड अमान्य है. न्यायमूर्ति बीआर गवी और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की पीठ इस निष्कर्ष पर पहुंची क्योंकि ट्रायल कोर्ट द्वारा हिरासत आवेदन पर निर्णय लेने से पहले उन्हें या उनके वकील को रिमांड आवेदन और गिरफ्तारी के आधार नहीं बताए गए थे.

दिल्ली पुलिस द्वारा मामले में आरोप पत्र दायर किया गया है, शीर्ष अदालत ने ट्रायल कोर्ट द्वारा तय की जाने वाली शर्तों पर प्रबीर पुरकायस्थ को जमानत पर रिहा करने का निर्देश दिया. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने न्यूज़क्लिक के संस्थापक प्रबीर पुरकायस्थ और एचआर प्रमुख अमित चक्रवर्ती को "भारत की संप्रभुता को बाधित करने" और देश के खिलाफ असंतोष पैदा करने के लिए चीन से पैसे लेने के आरोप में पिछले साल 3 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. एफआईआर के मुताबिक, न्यूज साइट चलाने के लिए बड़ी मात्रा में फंड चीन से आता था.

पुलिस ने दावा किया कि पुरकायस्थ ने 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान चुनावी प्रक्रिया को बाधित करने के लिए एक समूह - पीपुल्स अलायंस फॉर डेमोक्रेसी एंड सेक्युलरिज्म - के साथ साजिश रची. पुलिस ने कहा कि एफआईआर में नामित संदिग्धों और डेटा के विश्लेषण में सामने आए संदिग्धों पर 3 अक्टूबर को दिल्ली में 88 और अन्य राज्यों में सात स्थानों पर छापे मारे गए.

न्यूज़क्लिक के ऑफिस और जिन पत्रकारों की जांच की गई उनके आवासों से लगभग 300 इलेक्ट्रॉनिक गैजेट भी जब्त किए गए. गैरकानूनी गतिविधियां अधिनियम के तहत, एक स्वतंत्र प्राधिकारी जांच एजेंसी द्वारा जमा किए गए सबूतों की समीक्षा करने के बाद किसी आरोपी पर मुकदमा चलाने के बारे में सक्षम प्राधिकारी को सिफारिश करता है. मंजूरी देनी है या नहीं, यह तय करना सक्षम प्राधिकारी का काम है.

calender
15 May 2024, 11:55 AM IST

जरुरी ख़बरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो