Nayak: कौन है शाहिद सिद्दीकी जिसने चुनाव से ठीक पहले RLD से दिया इस्तीफा, क्या मुसलमानों का मोह खत्म?

Nayak: लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद मेरठ में हुई एनडीए की पहली रैली के अगले ही दिन शाहिद सिद्दीकी ने रालोद छोड़कर अपना छह साल पुराना नाता तोड़ लिया है

JBT Desk
JBT Desk

Nayak: लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद मेरठ में हुई एनडीए की पहली रैली के अगले ही दिन शाहिद सिद्दीकी ने रालोद छोड़कर अपना छह साल पुराना नाता तोड़ लिया है भारतीय पत्रकारिता और राजनीति की एक प्रमुख हस्ती शाहिद सिद्दीकी का जन्म 1951 में पत्रकारिता और साहित्य से जुड़े एक परिवार में हुआ था. उनके पिता, मौलाना अब्दुल वहीद सिद्दीकी, न केवल एक पत्रकार थे बल्कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान एक प्रमुख नेता भी थे. ऐसे माहौल में सिद्दीकी की परवरिश ने क्षेत्र में उनके अपने शानदार करियर की नींव रखी. 

अपने परिवार की विरासत से प्रेरित होकर, छोटी उम्र से ही सिद्दीकी ने उर्दू साहित्य में गहरी रुचि दिखाई. 12 साल की उम्र में, उन्होंने उर्दू में लिखना शुरू किया, एक जुनून जिसने उनके भविष्य के प्रयासों को महत्वपूर्ण रूप से आकार दिया. उनकी शैक्षणिक यात्रा ने उन्हें जाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज में राजनीति विज्ञान का अध्ययन करने के लिए प्रेरित किया, जहां उनकी बौद्धिक जिज्ञासा और नेतृत्व कौशल विकसित हुए.

1971 में, कॉलेज के छात्र रहते हुए, सिद्दीकी ने उर्दू पाक्षिक प्रकाशन "वक़ियात" लॉन्च करके अपनी पत्रकारिता यात्रा शुरू की. 1973 में इसके अंततः बंद होने के बावजूद, इस प्रारंभिक प्रयास ने पत्रकारिता के प्रति सिद्दीकी की स्थायी प्रतिबद्धता की शुरुआत को चिह्नित किया. असफलताओं से विचलित हुए बिना, उन्होंने अपने दृढ़ संकल्प और लचीलेपन का प्रदर्शन करते हुए प्रसिद्ध दैनिक समाचार पत्र "नई दुनिया" को एक साप्ताहिक पत्रिका के रूप में पुनर्जीवित किया.

सिद्दीकी की पत्रकारिता संबंधी गतिविधियाँ अक्सर सामाजिक न्याय और राजनीतिक सुधार के लिए उनकी सक्रियता के साथ जुड़ी हुई थीं. स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के एक छात्र नेता के रूप में, उन्होंने हाशिये पर पड़े लोगों के अधिकारों की वकालत की. सैद्धांतिक पत्रकारिता के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता के कारण 1986 में खालिस्तान आंदोलन के एक महत्वपूर्ण व्यक्ति जगजीत सिंह चौहान के साथ एक साक्षात्कार प्रकाशित करने के लिए विवादास्पद टाडा अधिनियम के तहत उनकी गिरफ्तारी हुई.

पत्रकारिता से राजनीति की ओर बढ़ते हुए, सिद्दीकी के करियर ने विविध और गतिशील रास्ते अपनाए. उन्होंने शुरुआत में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ गठबंधन किया और इसके अल्पसंख्यक सेल के प्रमुख के रूप में कार्य किया. इसके बाद, वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए, जहां उन्होंने राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सदस्य सहित महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया. हालाँकि, पार्टी के भीतर उनकी यात्रा उतार-चढ़ाव भरी रही, जिसमें निष्ठा और वैचारिक मतभेदों में बदलाव देखा गया.

चुनौतियों और विवादों के बावजूद, शाहिद सिद्दीकी की विरासत सत्य और न्याय की उनकी अथक खोज के प्रमाण के रूप में कायम है. पत्रकारिता और राजनीतिक सक्रियता में उनके योगदान ने भारतीय समाज पर एक अमिट छाप छोड़ी है, जिससे भावी पीढ़ियों को अखंडता और साहस के मूल्यों को बनाए रखने की प्रेरणा मिली है.

calender
01 April 2024, 10:28 PM IST

जरुरी ख़बरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो