सत्ता का खेल बिगाड़ सकते हैं इंडिया गठबंधन के ये 6 सांसद, दर्ज हैं कई आपराधिक मामले

लोकसभा चुनाव में एनडीए और इंडिया ब्लॉक के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली , जिसमें इंडिया गठबंधन को एनडीए से ज़्यादा सीटें मिलीं. हालांकि, राज्य में आम चुनाव के नतीजे ख़तरे में पड़ सकते हैं क्योंकि इंडिया ब्लॉक के छह सांसद कई आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे हैं, जिसके कारण उन्हें दो साल से ज़्यादा की जेल हो सकती है.

JBT Desk
JBT Desk

उत्तर प्रदेश में 2024 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और इंडिया ब्लॉक के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली , जिसमें इंडिया गठबंधन को एनडीए से ज़्यादा सीटें मिलीं. हालांकि, राज्य में आम चुनाव के नतीजे ख़तरे में पड़ सकते हैं क्योंकि इंडिया ब्लॉक के छह सांसद कई आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे हैं, जिसके कारण उन्हें दो साल से ज़्यादा की जेल हो सकती है.

रिपोर्ट के अनुसार, अगर इंडिया ब्लॉक के छह सांसदों को उनके चल रहे आपराधिक मामलों में दोषी ठहराया जाता है, तो वे अपनी संसद सदस्यता खो देंगे. इनमें सबसे उल्लेखनीय नाम गाजीपुर के सांसद अफजाल अंसारी का है , जो गैंगस्टर से राजनेता बने मुख्तार अंसारी के बड़े भाई हैं, जिनकी इस साल की शुरुआत में मृत्यु हो गई थी.

गाजीपुर के सांसद अफजाल अंसारी

अंसारी को गैंगस्टर एक्ट के एक मामले में पहले ही चार साल की सजा सुनाई जा चुकी है. इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उनकी सजा पर रोक लगा दी थी, जिसके बाद उन्हें आम चुनाव लड़ने की अनुमति मिल गई थी. हालांकि, जुलाई में जब अदालत खुलेगी, तब मामले की सुनवाई होगी, अगर अदालत उनकी सजा को बरकरार रखती है, तो उनकी संसद सदस्यता खत्म हो जाएगी.

आजमगढ़ के सांसद धर्मेंद्र यादव

आजमगढ़ के सांसद धर्मेंद्र यादव के खिलाफ चार आपराधिक मामले लंबित हैं और अगर उन्हें दो साल से अधिक की सजा सुनाई जाती है तो उनकी सदस्यता समाप्त हो जाएगी. जौनपुर के सांसद बाबू सिंह कुशवाहा के खिलाफ एनआरएचएम घोटाले से संबंधित 25 मामले दर्ज हैं, जो उस समय हुआ था जब मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं.

सुल्तानपुर सीट से रामभुआल निषाद

सुल्तानपुर सीट से भाजपा की मेनका गांधी को हराकर जीतने वाले रामभुआल निषाद पर आठ मामले दर्ज हैं, जिनमें से एक गैंगस्टर एक्ट के तहत दर्ज है. इसी तरह चंदौली से सांसद वीरेंद्र सिंह और सहारनपुर से सांसद इमरान मसूद पर भी कई मामले दर्ज हैं. इन इंडिया ब्लॉक सांसदों के खिलाफ दर्ज मामलों में कई तरह के अपराध शामिल हैं, जैसे धन शोधन, धमकी और गैंगस्टर अधिनियम की धाराएं, जिनके लिए दो साल से अधिक की जेल की सजा हो सकती है.

मामलों में दोषी पाए जाने पर रद्द होगी सदस्यता

अतीत में कई सांसदों को आपराधिक मामलों में दोषी पाए जाने के बाद संसद की सदस्यता से हाथ धोना पड़ा है. मोहम्मद आजम खान, खब्बू तिवारी, विक्रम सैनी और अशोक चंदेल जैसे नेता ऐसे ही कुछ नेताओं में से हैं. उत्तर प्रदेश में 2024 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को कुल 36 सीटें मिली हैं, जबकि अकेले बीजेपी को 33 सीटें मिली हैं. समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन इंडिया ब्लॉक ने 43 सीटें जीती हैं.

calender
11 June 2024, 07:57 PM IST

जरुरी ख़बरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो