पाक में हिंदू लड़की हो जाती हैं किडनैप, नागरिकता पाने के बाद जश्न का माहौल, देखें VIDEO

नागरिकता संशोधन अधिनियम के तहत पड़ोसी देश में धार्मिक उत्पीड़न के चलते भागकर आए लोगों को अब भारत की नागरिक्ता मिलने लगी है.

JBT Desk
JBT Desk

नागरिकता संशोधन अधिनियम के तहत पड़ोसी देश में धार्मिक उत्पीड़न के चलते भागकर आए लोगों को अब भारत की नागरिक्ता मिलने लगी है. बुधवार को होम मिनिस्टी ने 350 लोगों को नागरिक्ता प्रदान की जिसमें से 14 को गृह मंत्रालय बुलाकर दस्तावेज सौंपे गए थे. इसके अलावा अन्य लोगों को डिजिटल तौर  नागरिकता पाने के बाद खुशी जाहिर की है. इस बीच पाकिस्तान से भागकर आई एक परिवार की बेटी ने अपनी खुशी जाहिर की है और कहा कि हमे नई जिंदगी मिलने जैसा लग रहा है.

एक पाकिस्तानी शरणार्थी जिन्हें CAA के माध्यम से नागरिकता मिली यशोदा का कहना है कि "हम 2013 में यहां आए थे. हमें पानी और बिजली को लेकर काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. अब हमारे पास नागरिकता है. हमारा नहीं, लेकिन हमारे बच्चों का भविष्य उज्ज्वल होगा. हमने नागरिकता के लिए बहुत संघर्ष किया. हम खुश हैं और PM मोदी के आभारी हैं. हमारे बच्चे भी अन्य बच्चों की तरह शिक्षित होंगे और उनका भविष्य बेहतर होगा. हमें पाकिस्तानी कहा जाता था, अब कोई हमें भारतीय नहीं कहेगा." 

सीएए के जरिए नागरिकता पाने वाले पाकिस्तान के एक अन्य शरणार्थी ने कहा कि "जब हम 10 साल पहले यहां आए थे, तो हमारे पास नागरिकता नहीं थी. हम नागरिकता पाकर बहुत खुश हैं. हमें अपने बच्चों के दाखिले (स्कूलों में) में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था. अब हमारे बच्चों को उचित शिक्षा मिलेगी और हमारा भविष्य उज्ज्वल होगा.'' 

 

CAA के माध्यम से नागरिकता मिलने वाली एक पाकिस्तान की एक हिंदू शरणार्थी भावना का कहना है कि "वहां (पाकिस्तान) बहुत कठिनाइयां थीं. लड़कियां वहां पढ़ नहीं सकती थीं या अपने घरों से बाहर नहीं जा सकती थीं. मुसलमान हिंदू लड़कियों का अपहरण कर लेते हैं और उन्हें जबरन इस्लाम में परिवर्तित कर देते हैं. लड़कियां इतनी डरी हुई हैं, कि वे नहीं जातीं."

आगे उन्होंने कहा कि, जब मैं वहां था तो मैं बहुत छोटी थी, मुझे अपने घर के अलावा और कुछ याद नहीं है क्योंकि हम घर से बाहर बहुत कम निकलते थे. हमारे परिवार के बहुत से सदस्य अभी भी वहां हैं जो आना चाहते हैं. भारत लेकिन वे वीजा संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं. हम अपने देश में आकर बहुत खुश हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने हमारी बहुत मदद की है. हम पीएम मोदी और अमित शाह को धन्यवाद देते हैं... मैं एक शिक्षक बनना और शिक्षा देना चाहता हूं इस क्षेत्र में रहने वाली महिलाएं.", 

calender
16 May 2024, 05:46 PM IST

जरुरी ख़बरें

ट्रेंडिंग गैलरी

ट्रेंडिंग वीडियो