Banke Bihari Corridor: ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर का गालियारा भव्य और दिव्य है. यह पांच एकड़ से अधिक क्षेत्रफल में बनने वाले गलियारे में एक साथ दस हजार श्रद्धालु रुक सकेंगे. भक्तों को मंदिर परिसर में दिव्यता का अहसास होगा बल्कि प्रकृति का अहसास भी होगा. मंदिर के आस-पास की इमारतों का काम काफी तेजी के साथ चल रहा है.अब निर्माण होने के बाद कान्हा की पटरानी यमुना जो मंदिर से दूर हो गई थी. अब गालियारा बनने के बाद वह नजदीक दिखाई देंगी.

ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन के लिए वर्तमान मे सामान्य दिनोंमें 50 से 70 हजार श्रद्धालु आते हैं. जबिक शनिवार और रविवार को ये संख्या दो से ढाई लाख और विशेष पर्वों पर पांच से सात लाख होती है. गलियारा बनने के साथ ही यमुना एक्सप्रेस वे और आगरा- दिल्ली हाईवे से वृंदावन को जोड़ने के लिए अलग से सड़क बनाई जा रही है.

ऐसे में पर्यटकों की संख्या कई दोगुनी हो जायेगी. वृंदावन और मथुरा में ज्यादातर अर्थव्यवस्था मंदिरों पर ही टिकी है, ऐसे में पर्यटक बढ़ने से फूल विक्रेता से लेकर होटल और रेस्टोरेंट कारोबारी और प्रसाद विक्रेता से लेकर ई-रिक्शा चलाने वाली की आर्थिकी तेजी से बढ़ेगी.

क्या है खास?

दो परिसर में बनेगा भव्य गलियारा.

10 हजार वर्गमीटर का ऊपरी दल होगा जहां पर मंदिर होगा.

कृष्ण से जुड़े छायचित्रों का गलियारा भी 800 से वर्ग मीटर में दो होंगे.

करीब 11 हजार वर्गमीटर में मंदिर परिसर में खुला क्षेत्र होगा.

लोगों को मिलेगा लाभ 

ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में वर्तमान में एक था जब श्रद्धालु दर्शन के लिए आते थे और धक्का मुक्की करते थे. लेकिन इस समस्या से आपको छुटकारा मिल गया है. मंदिर परिसर के बाहर हजारों श्रद्धालु अंदर प्रवेश करने के लिए घंटों लाइन में खड़े रहते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं है. गलियारा बनने से दर्शन आसान होंगे दर्शन के लिए आपको किसी भी प्रकार की कोई भी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा.